दिल है हिंदुस्तानी

कुसुम गोस्वामी

दिल से निकले हर लफ्ज को संवारा है
मैंने कागज पर हर जज़्बात को उभारा है
© कुसुम गोस्वामी ‘किम’