दिल है हिंदुस्तानी

दोषियों के मूल अधिकारों की चिंता क्यों ?

निर्दोष के मूल अधिकारों का हनन होता है तो हो, दोषियों को उनका हक़ मिलना चाहिए?