दिल है हिंदुस्तानी

मोदी जी के नाम एक पत्र…<img src="https://s.w.org/images/core/emoji/13.0.0/72x72/1f48c.png" alt="💌" class="wp-smiley" style="height: 1em; max-height: 1em;" /><img src="https://s.w.org/images/core/emoji/13.0.0/72x72/1f4ac.png" alt="💬" class="wp-smiley" style="height: 1em; max-height: 1em;" />

हमारे प्यारे मोदी जी! कितने दुश्मन बनाओगे?
आराम से बैठते मंदिर का फैसला हो गया था न!
क्यों दूरदर्शिता और दिखलाते हो !
क्यों शांति के आडंबर के नीचे जलती चिंगारी देख पाते हो?
क्यों उसे आग बनने से पहले रोकने की ठानी?
क्यों छेड़ते हो ऐसे मुद्दे जिन्हें नहीं छेड़ने में ही आपकी भलाई है?
देखो तो ऊपर की कमाई में कितनी मलाई है!
कमाओ और पार्टी वालों को भी कमाने दो!
जो सदियों से सोए हैं,
उन्हें सोए ही रहने दो उन्हें जगाने का दुस्साहस…?
जैसा चल रहा था चलने देते,
बस देश की अर्थव्यवस्था देखते रहते!
जो काम हर सरकार करती है बस उतना करते रहते!
क्यों लिया मुश्किल काम हाथों में?
सफलता-असफलता की चिंता किए बगैर क्यों बैर लिया पूरे देश से?
जो आपकी भावनाओं और दूरदर्शिता को समझते नही?
जब तक जिएं ऐसे ही जिएं,
ऐसी सोच वालों के उद्धार के बारे में क्यों सोचा?
क्यों डराया पाकिस्तान को?
किसने की चिंता कभी कश्मीर की,
अपने देश के सम्मान की?
एक टुकड़ा ही ले गए थे अरे!पूरा कश्मीर भी ले लेंगे तो हमें क्या?
हमें मस्त रहने दो, एक ही जीवन मिला है चैन से जियो और जीने दो!
क्यों करतो हो फिक्र भविष्य की, हमको रेंगते हुए चलने दो!
आज आग की लपटें लगाने वालों को,
कल भारत को जलाने दो!
क्यों बनकर दीवार खड़े हो गए चैन से सोते तुम घर में?
क्यों सबको अपनी औलाद समझने लगे???
क्या पता नहीं ये कलयुग है…
यहां भला करने वालों पर पत्थर फेंका जाता है!
सत्ता मिलते ही पहले तिजोरी को भरा जाता है!
यहां सत्य पर परदा डाला जाता है!
यहां हर काम को टाला जाता है…टाला जाता है!

भवदीय
एक सच्ची भारतीय नागरिक
©®कुसुम गोस्वामी