दिल्लगी

मासूम मन की फरियाद

नन्हीं उंगलियो ने थाम ली मेरी कलाई,
कहीं जाते -जाते, मैं वहीं ठहर गई !

हाँ थी मैं बड़ी ही जल्दी में,
अपनी ही धुन अपनी ही मस्ती में !

उसने न जाने क्या जादू कर दिया,
मासूम आँखों से कुछ कह दिया !

दिल में ममता की लहर उभर गई,
मैं उसकी प्यारी सूरत तकती रह गई !

पर्स उतार टेबल पर रख दिया,
फिर उसको बाँहों में भर लिया !

ये सुकून और कहां पाना था,
अब मुझे कहीं और न जाना था !

©®कुसुम गोस्वामी

(चित्र सौजन्य: इंटरनेट)

Advertisements

1 thought on “मासूम मन की फरियाद”

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.