दिल्लगी

तर्क-कुतर्क

किसी के तर्क को अपने कुतर्क से !
हराने की कोशिश करते है जो लोग !!
बड़ी चतुराई से उछल – उछल कर !
अपना ओछापन बयां करते हैं वो लोग !!

कुसुम गोस्वामी ‘किम’

(चित्र सौजन्य: इंटरनेट)

Advertisements

3 thoughts on “तर्क-कुतर्क”

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.