दिल्लगी

प्यार

प्यार….
किसी के लिए अनमोल होता है
किसी के लिए खेल होता है
जिसे मिला वही समझे इसकी माया
दूर से से तो सोना भी पीतल लगता है

© कुसुम गोस्वामी ‘किम’

(चित्र सौजन्य: इंटरनेट)

Advertisements

2 thoughts on “प्यार”

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.