हम हिंदुस्तानी

होली की हार्दिक शुभकामनाएं

सुर्ख़ हुए गुलाबी गाल उलझ गए सुलझे बाल, कौन रखे अपना ख्याल बदल गई सबकी चाल, कोई दे रहा है ताल सबने मचाया खूब धमाल, कोई पूछो न आज हाल आ गया मानो भूचाल, मिट गए दिलों के मलाल उड़ा फ़िज़ाओं में जब गुलाल... उड़ा जब गुलाल...   ©® कुसुम गोस्वामी   होली की पावन… Continue reading होली की हार्दिक शुभकामनाएं

प्रकाशित लेख

स्त्री पुरुष के मध्य संतुलन जरूरी है

आज दिनांक 03.02.2020 को समाचार पत्र उजागर संसार के संपादकीय में मेरा लेख "स्त्री पुरुष के मध्य संतुलन जरूरी है" प्रकाशित हुआ है। लेख नीचे लिख रही हूं... "जब सृष्टि की रचना हुई। स्त्रियों को बहुत बड़ी ज़िम्मेदारी सौंपी गई... जननी की, अजन्में शिशु को कोख में रखकर अपने लहू से सींचकर तमाम पीड़ा उठाने… Continue reading स्त्री पुरुष के मध्य संतुलन जरूरी है