दिल्लगी

मकर संक्रांति की हार्दिक शुभकामनाएं

"फिज़ा में लहराऊं तेरे संगतू डोर मैं एक पतंग" 🎈 ❤️💐सभी आदरणीय मित्रों को मकर संक्रांति की हार्दिक शुभकामनाएं🙏💐❤️

हम हिंदुस्तानी

नोआखाली दर्दनाक हत्याकांड

जिन्ना का दोष यही था कि उसने मुसलमानों को सीधे क़त्ले आम कर के पाकिस्तान लेने का निर्देश दिया था ! वह चाहता तो यह क़त्ले आम रुक सकता था लेकिन उसे मुसलमानों की ताक़त दर्शानी थी ! बहुत कठोर पोस्ट है पर जानना जरूरी है, "जिन्ना" को 16 अगस्त 1946 से दो दिन पूर्व… Continue reading नोआखाली दर्दनाक हत्याकांड

हम हिंदुस्तानी

ये कहां आ गए हम…

साभार….मैं जब भी 18 के आसपास के हौसलामंद नौजवानों को नास्तिक होते देखता हूँ तो मुझे बुरा नहीं लगता। पर मैं जब इन्हें नमाज़, कुरान, वुज़ू, इस्लाम और मुसलमानों की इज़्ज़त करते देखता हूँ तो अच्छा लगता है। लेकिन जब यही YOUNG GUNS मंदिर में होती आरती का या भगवान की मूरत और उसकी पूजा… Continue reading ये कहां आ गए हम…

सीएए/एनआरसी- महत्वपूर्ण तथ्य, हम हिंदुस्तानी

On the merit

#CAA और #NRC का समर्थन करने वालों पर शांति भंग करने का आरोप लगाना तुक्ष मानसिकता को दर्शाता है।और एक बात अर्थव्यवस्था का रोना ग्राफ़ के साथ लेकर यहां न आएं...लुढ़कती GDP की चिंता है तो उसकी अलग रैली निकालें तथाकथित बुद्धिजीवीगण!बढ़ी फ़ीस से परेशानी है तो उसकी अलग रैली निकालें JNU वाले बूढ़े बच्चे!कश्मीर… Continue reading On the merit

हम हिंदुस्तानी

अब हम सच्चाई से अनजान थोड़े हैं!

⭐⭐⭐⭐⭐ राहत इंदौरी ने लिखा था "सभी का खून है शामिल यहाँ की मिट्टी मेंकिसी के बाप का हिंदुस्तान थोड़ी है "~ राहत इंदौरी का शेयर इन दिनों खूब लिखा बोला जा रहा है अब यह पुराना हो गया है प्रस्तूत है नया- “ख़फ़ा होते हैं हो जाने दो, घर के मेहमान थोड़ी हैंजहाँ भर… Continue reading अब हम सच्चाई से अनजान थोड़े हैं!

हम हिंदुस्तानी

हमारी संस्कृति हमारी पहचान

2011 की बात है मैं जर्मनी गई थी। बहुत ही शांतिप्रिय और सुंदर, साफ़ सुथरा देश। कसेल (kassel) जर्मनी का एक छोटा सा टाउन हालांकि वहां के टाउन में जो सुविधाएं और साफ़ सफाई थी कहते हुए भी बड़ा संकोच होता है उसकी तुलना भी हम अपने देश की राजधानी दिल्ली से नहीं कर सकते;… Continue reading हमारी संस्कृति हमारी पहचान