हम हिंदुस्तानी

प्रतिभा किसी की मोहताज नहीं

जिस पॉपकॉर्न और कोल्डड्रिंक को हम बाहर 30-30 रुपये में पीते हैं उसकी कीमत उछलकर अचानक सिनेमा हॉल में 300-400 तक पहुंच जाती है।और टिकटों के आसमान छूते मूल्यों का क्या कहना। एक स्टार को स्टार, आम से ख़ास हम ही बनाते हैं। लखपति से करोड़पति फिर अरबपति हमारी जेब से झड़े पैसे ही बनाते… Continue reading प्रतिभा किसी की मोहताज नहीं

दिल्लगी

खुशियों के रंग

खुशी है एक उमंग, खुशी है जल तरंग ! खुशी है बारिश की रिमझिम, खुशी है तारों की टिमटिम ! खुशी है उनका प्यार, खुशी है उसका इजहार ! खुशी है चिड़ियो का चहकना, खुशी है मोर का नाचना ! खुशी है मधुर संगीत सुनना, खुशी है मीठी धुन पे थिरकना ! खुशी है मस्त… Continue reading खुशियों के रंग

दिल्लगी

खुद पर कर एतबार

हारकर जीवन में न होंगे हताश, जीत की जारी रखेंगे सदा तलाश माना किस्मत पर नहीं है अपना ज़ोर, पर चल तो सकते हैं मंजिल की ओर जीवन रस में घोलें खुशियों की मिठास , कभी तो रंग लाएगा अपना एक प्रयास मुश्किलों की खड़ी होंगी जब कई दीवार, हौसलों की बनाएंगे मजबूत ऊंची मीनार… Continue reading खुद पर कर एतबार

दिल्लगी

काश कुछ ऐसा हो जाए

काश कुछ ऐसा हो जाए हाँ कोई जादू हो जाए नाम  तेरा  होठों पे आए और तू हाजिर हो जाए काश कुछ ऐसा हो जाए बादल पूछ के जल बरसाए कभी  धरती सूखी न रह पाए कहीं फिर बाढ़ नही आए काश कुछ ऐसा हो जाए हर जुमॆ ही मिट जाए बेफ्रिक हम घर से… Continue reading काश कुछ ऐसा हो जाए

दिल्लगी

दुआ है मेरी रब से

मेरे सभी मित्रों के लिए ये दुआ है मेरी रब से, तेरी हर दुआ कबूल हो जाए ! खुशियों में तो , तू खुश रहे सदा, गम में भी तेरी आँख न भर पाए !! ©®कुसुम गोस्वामी

दिल्लगी

छुपी खुशी 

खुशियों की राह देखोगे तो वो कभी न पास आएंगी तुम्हारे क्योंकि वो तो न जाने कब से दिल में छुपी बैठी है तुम्हारे गम, ईष्या, लालच, क्रोध का साया जाने किस-किस को तूने अपनाया कभी इन्हें भुलाकर देखो खुशी तभी आएगी बुलाकर देखो नही तो वह रुठकर चली जाएगी गम या खुशी एक ही… Continue reading छुपी खुशी 

सीएए/एनआरसी- महत्वपूर्ण तथ्य, हम हिंदुस्तानी

बलात्कारियों को भी बचाओ ?

अब कोई इतना मूर्ख तो हो नहीं सकता कि CAA और NRC में फ़र्क या ये क्यों ज़रूरी हैं ये न समझे।असली मुद्दे पर आओ?बहाना क्यों बना रहे हो?रही बात हिंदू शरणार्थियों को नागरिकता देने की।अरे! जब इन कट्टर मुसलमानों ने भारत के अंदर कश्मीर से कश्मीरी पंडितों को बेरहमी से निकाल दिया। तो इन… Continue reading बलात्कारियों को भी बचाओ ?

हम हिंदुस्तानी

ऐ! मेरे वतन के लोगों

ऐ! मेरे वतन के लोगों जरा आँख में भर लो पानी, इतनी जल्दी कैसे तुम भूले कश्मीर की वो दर्द भरी कहानी... कश्मीर में हिंदुओं पर कहर टूटने का सिलसिला 1989 जिहाद के लिए गठित जमात-ए-इस्लाम ने शुरू किया था।14 सितंबर 1989 को भाजपा के नेता पंडित टीका लाल टपलू को कई लोगों के सामने… Continue reading ऐ! मेरे वतन के लोगों

सीएए/एनआरसी- महत्वपूर्ण तथ्य, हम हिंदुस्तानी

CAB और NRC- आख़िरी मौका

गौर से पढें, क्यूँ भारत के अस्तित्व के लिए CAB और NRC आख़िरी मौका हैं 👇👇👇📢 लेबनान की कहानी 70 के दशक में लेबनान अरब का एक ऐसा मुल्क था। जिसे अरब का स्वर्ग कहा जाता था । और इसकी राजधानी बेरूत को अरब का पेरिस। लेबनान एक progressive, tolerant और multi-cultural society थी, ठीक… Continue reading CAB और NRC- आख़िरी मौका