प्रकाशित लेख

स्त्री पुरुष के मध्य संतुलन जरूरी है

आज दिनांक 03.02.2020 को समाचार पत्र उजागर संसार के संपादकीय में मेरा लेख "स्त्री पुरुष के मध्य संतुलन जरूरी है" प्रकाशित हुआ है। लेख नीचे लिख रही हूं... "जब सृष्टि की रचना हुई। स्त्रियों को बहुत बड़ी ज़िम्मेदारी सौंपी गई... जननी की, अजन्में शिशु को कोख में रखकर अपने लहू से सींचकर तमाम पीड़ा उठाने… Continue reading स्त्री पुरुष के मध्य संतुलन जरूरी है

परिचय

सपनों की ज़मीं

मैं कुसुम गोस्वामी, दिल्ली की रहने वाली हूं . देश की तमाम जानी-पहचानी मासिक पत्रिकाओं में समय-समय पर कहानियां और कविताएं प्रकाशित होते रहे हैं. आकाशवाणी से भी जुड़ी हूं. वहाँ से मैंने अपनी कहानियां, व्यंग्य और कविताएं प्रस्तुत की हैं. शीध्र ही आपके सम्मुख अपने पहले उपन्यास के साथ प्रस्तुत होउंगी…